डिजिटल दुनिया में पेमेंट के समय रहें सचेत

0
99
digital-Payment

कुछ समय पहले तक अपनी जेब में कैश लेकर चलना शान की बात समझी जाती थी, पर जब से नोटबंदी हुई है तब से लोग अपनी जेब में कैश की जगह कार्ड रखने लगे हैं। डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड से कहीं भी भुगतान कर सकते हैं। लोगों को धीरे-धीरे समझ आ रहा है कि कार्ड से पेमेंट करना सुविधाजनक है। ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करते समय अगर कुछ खास बातों का ख्याल रखेंगे तो आसानी से अपना काम पूरा कर पाएंगे।

Also Read : अगर आपके मोबाइल में भी है ये 4 एप, तो कर दिए फौरन डिलीट

कहीं नहीं लिखे पासवर्ड

ज्यादातर लोग क्रेडिट या डेबिट कार्ड के पासवर्ड को कहीं न कहीं लिखकर रखते हैं। यह खतरनाक हो सकता है। आपको पासवर्ड कहीं लिखकर रखने के स्थान पर याद रखने की कोशिश करनी चाहिए। अगर आपको लगता है कि आपकी मेमौरी कमजोर है और पासवर्ड्स भी काफी ज्यादा हो गए हैं तो आपको अपने मोबाइल फोन में पासवर्ड से लॉक रखना चाहिए।

Also Read : Gmail में पाएं अनचाहे mails से छुटकारा

सावधानी से डालें पासवर्ड

साइबर दुनिया के एक्सपर्ट्स का मानना है कि जब भी आप किसी जगह या डेबिट या क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करें तो पासवर्ड छुपाकर ही इस्तेमाल करें। अगर किसी व्यक्ति को आपके कार्ड का पासवर्ड पता है तो वह गलत ट्रांजेक्शन कर सकता है। आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों का भी ख्याल रखना चाहिए। इसकी रिकॉर्डिंग देखकर पासवर्ड पता किया जा सकता है।

Also Read : यहां फ्री में सीखें इंग्लिश, स्पैनिश, फ्रेंच व जर्मन लैंग्वेज

मोबाइल फोन रखें पास

ऑनलाइन खरीदारी को ज्यादा सुरक्षित बनाने के लिए अब वन टाइम पासवर्ड (ओपीटी) जरूरी कर दिया गया है। ऑनलाइन भुगतान करते समय आपको अपना रजिस्टर्ड मोबाइल फोन पान रखना चाहिए। इस पर आने वाले ओटीपी से आप भुगतान की प्रक्रिया को पूरा कर पाते है। अगर आपका पासवर्ड किसी ओर के पास है और वह खरीदारी करने की कोशिश कर रहा है तो ओटीपी के माध्यम से तुरंत पता लग जाएगा कि कहीं कुछ गड़बड़ की जा रही है।

Also Read : सिर्फ 5 मिनट में घटाएं 5 किलो वजन

एचटीटीपी का रखें ख्याल

ऑनलाइन शॉपिंग के समय ख्याल रखें कि जिस वेबसाइट पर खरीदारी कर रहे हैं, वह हाइपर टेक्टस ट्रांसफार्म प्रोटोकॉल (एचटीटीपी) है या हाइपर टेक्सस ट्रांसफार्म प्रोटोकॉल सिक्योर(एचटीटीपीएस)। एचटीटीपीएस आपके द्वारा भेजे गए डाटा को ज्यादा सुरक्षित बनाता है। इसमें वेबसाइट को भेजा गया डाटा एन्क्रिप्टेड रहता है।

Also Read : आपकी सेहत के लिए फायदेमंद है फेसबुक, जानें कैसे…

साइबर फ्रॉड के बाद..

अगर आपको लगता है कि आपके साथ साइबर दुनिया में धोखाधड़ी हो गई है तो पहले अपना कार्ड ब्लॉक करवा दें। इसके लिए कार्ड की कंपनी के कस्टमर केयर नंबर्स की जानकारी होनी चाहिए। कार्ड खोने या चोरी होने पर अपनी होम ब्रांच में संपर्क करके सारी स्थिति की जानकारी दें। इसकी शिकायत पुलिस में भी दर्ज करवाएं।

Also Read :

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

Facebook Comments
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here