स्मार्टफोन की लाइट का शरीर और दिमाग पर ये होता है असर

0
188
स्मार्टफोन की लाइट का शरीर और दिमाग पर ये होता है असर
SmartPhone

कई अध्ययनों से पता चल चुका है कि अधिकांश लोग सुबह सोकर उठने के 15 मिनट बाद और रात को सोने के 15 मिनट पहले अपने स्मार्टफोन के अपडेट चेक करते हैं। कुछ लोग तो देर रात तक लाइट बंद करने के बाद मोबाइल की रोशनी पर अपडेट चेक करते या कुछ पढ़ते हुए सो जाते हैं। क्या आप जानते हैं कि स्मार्टफोन की लाइट खराब नींद, मेलाटोनिन के असंतुलन सहित कई स्वास्थ्य समस्याओं के लिए जिम्मेदार है। आइए जानते है कि स्मार्टफोन की लाइट का क्या पड़ता है स्वास्थ्य पर असर…

Also Read : सूर्यस्नान के ये फायदे जानकर दंग रह जाएंगे आप, कीजिए 15 मिनट सूर्यस्नान

नींद पर प्रभाव

लंबे समय तक पर्याप्त नींद न लेने से बॉडी में न्यूरोटॉक्सिन बनने लगते हैं, जिससे अच्छी नींद लेने में समस्या हो सकती है।

सीखने में समस्या

स्मार्टफोन की लाइट की वजह से नींद खराब होती है, जिससे कुछ भी सीखने में समस्या होने की आशंका बढ़ जाती है।

Also Read : गंजेपन से छूटकारा पाने के 5 अचूक उपाय

याददाश्त पर असर

इससे नींद की दिनचर्या अव्यवस्थित होती है और नींद मेंं बाधा आती है, जिसका असर दूसरे दिन भी व्यक्ति की याददाश्त पर पड़ता है।

मोटापे का खतरा

मेलाटोनिन हार्मोन के असंतुलन से भूख पर नियंत्रण कम हो जाता है, जिससे मोटापे का खतरा बढ़ सकता है।

Also Read : बढ़ती उम्र का असर कम करने का अचूक उपाय, आज ही आजमा कर देखें

डिप्रेशन की आशंका

मेलाटोनिन असंतुलन का असर बॉडी क्लॉक पर भी पड़ता है, जिससे डिप्रेशन होने की आशंका भी बढ़ जाती है।

कैंसर का खतरा

रात में लाइट के संपर्क में रहने से नींद बाधित होती है, जिसकी वजह से प्रोस्टेट या ब्रेस्ट कैंसर की भी आशंका बढ़ जाती है।

विजन पर असर

कुछ अध्ययनों से पता चला है कि ब्लू लाइट के असर पर रेटिना गर्म होने लगता है, जिससे व्यक्ति के विजन पर असर पड़ता है।

Also Read :

Latest Hindi News से जुड़े, अन्य अपडेट के लिए हमें फेसबुक पेज, ट्विटर और गूगल प्लस पर फॉलो करें

Facebook Comments
loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here