Green tea health benefits | ग्रीन टी पीने के फायदे सुन दंग रह जाएंगे आप

    Green tea के रोजाना सेवन से आप कई health benefits प्राप्त कर सकते है। यह जहां आपकी त्वचा को चमकदार बनाने के साथ ही बढ़ती उम्र के प्रभाव को कम करती है। इससे आप अपनी हमेशा युवा नजर आते है।

    - Advertisement -
    - Advertisement -

    Green tea भारत में तेजी से पेय पदार्थ के रूप में लोकप्रिय होती जा रही है। जबकि दुनिया के कई देशों में परंपरागत और स्वास्थ्य लाभ (health benefits ) को देखते हुए पहले से ही इसका बड़े रूप में इस्तेमाल किया जाता है। यह चाय कैमेलिया साइनेंसिस पौधे (Camellia sinensis plant) की पत्तियों से प्राप्त होती है। इसी पौधे से काली चाय (black tea) और ऊलोंग चाय (oolong tea) प्राप्त होती है। हालांकि, प्रोसेसिंग के दौरान हरी चाय (Green tea) न्यूनतम ऑक्सीकरण के दौर से गुजरती है। जिससे इसका नेचुरल कलर, फलेवर और स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाने वाले तत्व ज्यों की त्यों बने रहते है।

    ग्रीन टी के इतिहास पर नजर डाले तो चीन, जापान और कोरिया जैसे पूर्वी एशियाई देशों की संस्कृति में यह पूरी तरह रची-बसी है। वहां रूटीन के अलावा विशेष समारोह में भी ग्रीन टी मेहमान नवाजी का एक पार्ट है। स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद रहने वाली ग्रीन टी ने इन देशों के साथ ही पूरी दूनिया में अपनी धाक जमा ली है। 

    आज हम आपको ग्रीन टी का उत्पादन, प्रोसेसिंग प्रक्रिया, स्वास्थ्य लाभ, nutritional profile और  preparation techniques के बारे में बताने जा रहे है।

    Green tea का एक लंबा इतिहास है और माना जाता है कि इसकी उत्पत्ति हजारों साल पहले चीन (China) में हुई थी। शुरुआत में इसकी खपत और खेती चीन में की जाती थी, जहां यह वहां की संस्कृति और परंपरा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। हालांकि, समय के साथ, Green tea का उत्पादन अन्य देशों में भी होने लगा। खासकर पूर्वी एशिया में। जापान ने इस परंपरा को विकसित किया है, यहां की matcha एक प्रमुख किस्म है। चीन और जापान के अलावा, ग्रीन टी का उत्पादन करने वाले अन्य देशों में दक्षिण कोरिया, ताइवान और दक्षिण पूर्व एशिया के विभिन्न क्षेत्र शामिल हैं। जहां तक सबसे अधिक ग्रीन टी का उत्पादन करने वाले देश की बात है, वर्तमान में चीन शीर्ष स्थान रखता है। इसमें ग्रीन टी की किस्मों और बड़े पैमाने पर चाय उत्पादन किया जाता है।

    Health Benefits of Green Tea

    वैज्ञानिक रिसर्च में सामने आया है कि ग्रीन टी का पेय पदार्थ के रूप में प्रयोग किया जाए तो इसके शरीर पॉजिटिव इफेक्ट पड़ता है। इसमें मौजूद बायोएक्टिव तत्व मानव स्वास्थ्य (human health) के लिए फायदेमंद साबित हुए है। यहां ग्रीन टी से होने वाले कुछ स्वास्थ्य फायदों के बारे में बताया जा रहा है।

    A. एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपुर

    1. एपिगैलोकैटेचिन गैलेट (ईजीसीजी) जैसे पॉलीफेनोल्स और कैटेचिन से भरपूर।
    2. एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करता है और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करता है।
    3. कोशिकाओं को नुकसान से बचाने में मदद कर सकता है और पुरानी बीमारियों के जोखिम को कम कर सकता है।

    B. Boosting metabolism and weight management

    1. Green Tea में कैटेचिन चयापचय को बढ़ा सकते हैं और वसा ऑक्सीकरण को बढ़ावा मिलता है।
    2. थर्मोजेनेसिस और कैलोरी व्यय को बढ़ावा देकर weight management में मदद कर सकता है।
    3. स्वस्थ शरीर के वजन को बनाए रखने में संभावित रूप से सहायता कर सकता है।

    C. heart health को बढ़ावा देना

    1. कोलेस्ट्रॉल और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करने में मदद कर सकता है।
    2. हृदय रोग और स्ट्रोक जैसे हार्ट रोगों के जोखिम को कम कर सकता है।
    3. रक्तचाप (blood pressure) को नियंत्रित करने और रक्त वाहिका के कार्य में सुधार करने में मदद कर सकता है।

    D. Supporting brain function and mental well-being

    1. ग्रीन टी में कैफीन और एमिनो एसिड एल-थीनाइन होता है, जो brain function को बढ़ा सकता है और सतर्कता में सुधार सकता है।
    2. ग्रीन टी के सेवन से उनींदापन पैदा किए बिना Relaxation को बढ़ावा मिलता है।
    3.  न्यूरोडीजेनेरेटिव रोगों के जोखिम को कम करने में सहायक।

    E. कैंसर जैसी भयानक बीमारी से बचाव में सहायक

    1. ग्रीन टी में पॉलीफेनोल्स एंटी-कार्सिनोजेनिक गुण होते हैं।
    2. कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकने में मदद कर सकता है और कुछ प्रकार के कैंसर, जैसे स्तन, प्रोस्टेट और कोलोरेक्टल कैंसर के जोखिम को कम कर सकता है।
    3. कैंसर की रोकथाम और उपचार में ग्रीन टी की Potential role का पता लगाने के लिए और शोध जारी है।

    F. मधुमेह (Diabetes) के जोखिम में कमी

    ग्रीन टी रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने, इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करने और type 2 diabetes के जोखिम को कम करने में मदद करती है।

    G.पाचन स्वास्थ्य (Digestive Health) के अनुकूल

    ग्रीन टी में पॉलीफेनोल्स बेहतर पाचन, आंत के स्वास्थ्य और लाभकारी आंत बैक्टीरिया के अनुकूल संतुलन से जुड़े हैं।

    H.एंटी-इंफ्लेमेटरी (Anti-Inflammatory) प्रभाव को कम करें

    ग्रीन टी के एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण शरीर में सूजन को कम करने और गठिया जैसी स्थितियों के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं।

    I. Skin Health and Aging

    Green Tea में एंटीऑक्सिडेंट त्वचा को यूवी क्षति से बचाने में मदद कर सकते हैं, त्वचा चमकदार दिखाई देने लगती। इसके रोजाना सेवन से बढ़ती उम्र के लक्षणों को रोका जा सकता है।

    तनाव (Stress) में कमी

    ग्रीन टी में एमिनो एसिड एल-थीनाइन होता है, जिसका मस्तिष्क पर शांत प्रभाव पड़ता है। यह तनाव और चिंता को कम करता है।

    यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि green tea ने promising health benefits दिखाए हैं, लेकिन फिर भी इसके सेवन के  परिणाम भिन्न-भिन्न हो सकते हैं, और निश्चित निष्कर्ष स्थापित करने के लिए इस पर और अधिक शोध की आवश्यकता है।

    Nutritional Profile

    Green tea में कई प्रकार के बायोएक्टिव यौगिक (bioactive compounds) होते हैं जो इसके Nutritional Profile में योगदान करते हैं। जबकि चाय की विशिष्ट किस्म और प्रसंस्करण विधियों जैसे कारकों के आधार पर इसका प्रभाव अलग-अलग हो सकता है। यहां कुछ प्रमुख घटक बताए जा रहे हैं जो आमतौर पर ग्रीन टी में पाए जाते हैं।

    A. Vitamins and minerals

    1. Vitamin C: Green tea विटामिन सी की एक छोटी मात्रा प्रदान कर सकती है, एक आवश्यक antioxidant vitamin।
    2. Vitamin B2 (Riboflavin): ग्रीन टी में राइबोफ्लेविन के अंश होते हैं, जो ऊर्जा उत्पादन और चयापचय में भूमिका निभाते हैं।
    3. Minerals: Green tea में पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम जैसे खनिजों की थोड़ी मात्रा और मैंगनीज और जस्ता जैसे तत्वों का पता लगाया जाता है।

    B. Polyphenols and catechins

    1. Epigallocatechin gallate (EGCG): यह कैटेचिन ग्रीन टी में सबसे प्रचुर मात्रा में और शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है, जो विभिन्न स्वास्थ्य लाभों से जुड़ा है।
    2. Other catechins: ग्रीन टी में कैटेचिन भी होते हैं जैसे एपिकेचिन, एपिकेचिन गैलेट और एपिगैलोकैटेचिन।
    3. Polyphenols: कैटेचिन के अलावा, ग्रीन टी में अन्य पॉलीफेनोल्स जैसे फ्लेवोनोइड्स और टैनिन होते हैं, जो इसके एंटीऑक्सीडेंट गुणों में योगदान करते हैं।

    C. Caffeine content

    1. ग्रीन टी में कैफीन होता है, लेकिन कॉफी की तुलना में कम मात्रा में।
    2. चाय के प्रकार, पकने का समय और पानी के तापमान जैसे कारकों के आधार पर कैफीन की मात्रा भिन्न होती है।
    3. औसतन, 8 औंस कप ग्रीन टी में लगभग 20-30 मिलीग्राम कैफीन होता है।

    यहां उल्लेखनीय है कि ग्रीन टी के पोषण संबंधी प्रोफाइल को overall balanced diet के हिस्से के रूप में माना जाना चाहिए और व्यक्तिगत आहार की ज़रूरतें भिन्न हो सकती हैं।

    Green tea पीने के दौरान रखी जाने वाली सावधानियां

    Green tea आम तौर पर सुरक्षित है, लेकिन फिर भी इसके सेवन के दौरान विशेष रूप से कुछ व्यक्तियों के लिए आवश्यक सावधानी बरतना जरूरी है। इसके सेवन से पूर्व ये सावधानियां बरतनी चाहिए।

    A. Caffeine sensitivity

    1. Green tea में कैफीन होता है, हालांकि यह कॉफी की तुलना में काफी कम मात्रा में पाया जाता है। इसलिए कैफीन के प्रति संवेदनशील व्यक्तियों को सतर्क रहना चाहिए और इसका सेवन कम करना चाहिए।
    2. कैफीन के अत्यधिक सेवन से घबराहट, अनिद्रा, हृदय गति में वृद्धि और पाचन संबंधी समस्याएं जैसे लक्षण हो सकते हैं।

    B. डॉक्टर की सलाह से ग्रीन टी का सेवन करें मरीज

    1. ग्रीन टी में ऐसे यौगिक होते हैं जो कुछ दवाओं के साथ परस्पर क्रिया कर सकते हैं। यदि आपको पहले से कोई स्वास्थ्य समस्या है या आप दवाएँ ले रहे हैं, तो सलाह दी जाती है कि ग्रीन टी का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह लें।
    2. ग्रीन टी दूसरों के बीच रक्त को पतला करने वाली दवाओं, रक्तचाप की दवाओं, कुछ एंटीडिप्रेसेंट और लीवर की दवाओं को प्रभावित कर सकती है।

    C. लोहे का अवशोषण करती है ग्रीन टी

    1. ग्रीन टी में टैनिन होता है, जो शरीर द्वारा गैर-हीम आयरन (पालक व अन्य हरी सब्जियाें सहित अन्य खाद्य पदार्थों में पाया जाता है) के अवशोषण को बाधित कर सकता है।
    2. यदि आपको आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया है या आयरन की कमी का खतरा है, तो आयरन युक्त खाद्य पदार्थों के बजाय भोजन के बीच ग्रीन टी का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

    D. गर्भावस्था के दौरान महिलाएं ग्रीन टी के सेवन से बचें

    1. गर्भावस्था के दौरान कैफीन की उपस्थिति और इसके प्रभावों पर सीमित शोध के कारण, आमतौर पर गर्भवती महिलाओं को ग्रीन टी का सेवन कम करने की सलाह दी जाती है।
    2. स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी ग्रीन टी के सेवन से सावधान रहना चाहिए, क्योंकि कैफीन स्तन के दूध में जा सकता है और शिशु के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है।

    E. कम गुणवत्ता और नकली ग्रीन टी का सेवन नहीं करें

    1. ग्रीन टी के सेवन से पूर्व यह सुनिश्चित कर लें कि वह ग्रीन टी ब्रांडेड है। उसमें अत्यधिक कीटनाशक का प्रयोग किया गया है।
    2. कम गुणवत्ता वाले या नकली ग्रीन टी उत्पादों से सावधान रहें, खासकर अविश्वसनीय स्रोतों से खरीदते समय।

    How to make green tea

    ग्रीन टी बनाने के लिए इन स्टेप्स को फॉलो करना होगा

    1.पानी उबालें: केतली या सॉस पैन में पानी को तब तक गर्म करें जब तक कि यह लगभग 160-180°F (70-82°C) के तापमान तक न पहुंच जाए।  उबलते पानी का उपयोग करने से बचें, क्योंकि इससे कड़वा स्वाद हो सकता है।

    2.अपनी ग्रीन टी चुनें: अपनी पसंदीदा ग्रीन टी की किस्म चुनें, चाहे वह ढीली पत्ती वाली ग्रीन टी हो या ग्रीन टी बैग। विभिन्न प्रकार की हरी चाय में अलग-अलग ब्रूइंग आवश्यकताएं और स्वाद हो सकते हैं, इसलिए आप जिस चाय का उपयोग कर रहे हैं उसके लिए विशिष्ट निर्देशों का पालन करें।

    3.चाय को नापें: एक मानक 8-औंस कप ग्रीन टी के लिए, लगभग 1 चम्मच खुली पत्ती वाली चाय या 1 ग्रीन टी बैग का उपयोग करें।

    4.स्टीपिंग टाइम: स्टीपिंग का समय व्यक्तिगत पसंद और ग्रीन टी के प्रकार के आधार पर अलग-अलग हो सकता है। आम तौर पर  ग्रीन टी को 1 से 3 मिनट तक डूबो कर रखा जाता है। सावधान रहें कि ज्यादा देर तक डूबाकर नहीं रखना है, क्योंकि इसका स्वाद कड़वा हो सकता है।

    5.भिगोने की विधि:

    • ढीली पत्ती वाली ग्रीन टी के लिए: चाय की पत्तियों को टी इन्फ्यूज़र, टी स्ट्रेनर या टीपॉट में रखें। चाय की पत्तियों के ऊपर गर्म पानी डालें और ढक दें। इसे वांछित समय के लिए डूबा रहने दें।
    • ग्रीन टी बैग के लिए: टी बैग को अपने कप या मग में रखें। टी बैग के ऊपर गर्म पानी डालें और इसे निश्चित समय के लिए डूबा रहने दें।

    6.चाय की पत्तियों/बैग को छानें या हटा दें: एक बार निश्चित समय पूरा हो जाने पर चाय की पत्तियों या टी बैग को पानी से निकाल दें। यदि आप खुली पत्ती वाली चाय का उपयोग कर रहे हैं, तो आप पत्तियों को निकालने के लिए चाय को छान सकते हैं।

    7.परोसें और आनंद लें: ब्रू की हुई ग्रीन टी को अपने कप या मग में डालें। आप इसे ऐसे ही पी सकते हैं या अपनी पसंद के अनुसार शहद या नींबू  इसमें मिला सकते हैं। अपनी ग्रीन टी का आनंद लें जबकि यह अभी भी गर्म है।

    यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि पकाने के तरीके और प्राथमिकताएं व्यक्तिगत स्वाद और आपके द्वारा उपयोग की जा रही विशिष्ट प्रकार की ग्रीन टी के आधार पर भिन्न हो सकती हैं। इच्छानुसार स्वाद  के लिए पानी के तापमान, पत्ती के डूबे रहने के समय और चाय से पानी के अनुपात में समायोजन किया जा सकता है।

    Also Read :

    ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. NewsPost.in पर विस्तार से पढ़ें देश की अन्य ताजा-तरीन खबरें

    - Advertisement -
    News Posthttp://newspost.in
    हिन्दी समाचार, News in Hindi, हिन्दी न्यूज़, ताजा समाचार, राशिफल, News Trend. हिन्दी समाचार, Latest News in Hindi, न्यूज़, Samachar in Hindi, News Trend, Hindi News, Trend News, trending news, Political News, आज का राशिफल, Aaj Ka Rashifal, News Today
    - Advertisement -
    Exit mobile version